Advertisement

BACKLINK क्या हे ?(What is Backlink in Hindi)

BACKLINK

नमस्ते दोस्तों आज के इस INFORMATIVE आर्टिकल में हम वेबसाइट/ब्लॉग से जुडी “BACKLINK”

के बिसाए में आसान सब्दों और उधाहरण के साथ लिखा गया हे |

“BACKLINK” यह एक ट्रिक हे या फिर एक जरिया कह सकते हैं क्यूंकि यह ट्रिक एक छोटी नदी को समुन्दर बनाने का कम करता हे |”और ये केसे और किस तरह कम करता हे” ?

तो चलिए अब इसको हम बड़ी आसानी से समझे !

“BACKLINK” क्या हे ?

“BACKLINK” पहली बात तो यह हे इसका हिंदी अर्थ/मतलब ही काफी हे इसे समझने के लिए  | हिंदी में BACKLINK का अर्थ देखे तो BACK यानि पीछे और LINK मतलब जुड़ना |

तो सरल हे इसे  समझने में क्यूंकि इसका मतलब पीछे से SUPPORT/LINK जूडा रहना  जिसके कारन अपने से नहीं तो पीछे से तो जरुर SUPPORT/LINK  होगा जिससे ये फायेदा होगा जहा से जुड़ा हे वोहा से TRAFFIC आने के चांस 70% बढ़ जाते

Advertisement

और ये केसे होता हे इसे जरा समझते हैं !

मानलो आप मिटी खोद कर एक तालाब बनाय उसमे मछली चास करने के लिए अब शुखी तलब में पानी तो भरना पड़ेगा लेकिन पानी भरने का जो भी सोर्स हे वो बोहुत कम हे |

लकिन कुछी दूर में एक दुसरे आदमी के पास बड़ी सी झील जेसी तलब हे आगार वो हेल्प करना चाहेगा तो आप उसके तालाब से अपने तालाब तक मिटी खोद कर पानी जाने के लिए रास्ता बनाना होगा और अपने तालाब में पानी भार जाये तो मछली चास करके पैसा कमा सकते हो |

कहने का मतलब पानी का जो  रास्ता हे उसीको “BACKLINK” काहा जाता हे

इसीतरह वेबसाइट/ब्लॉग में भी कोई कोई अछि वेबसाइट मतलब अच्छा खासा TRAFFIC वाला वेबसाइट से “BACKLINK” द्वोरा जुड़  जायें इससे क्या होगा उसके पास एक दिन में 10000 Visitors आते हे तो उसके 20% 2000 VISITORS आने के चनस बोहुत बढ़ जाता हे |

BACKLINK का कम ही हे एक दुसरे से जोड़ना क्यूंकि GOOGLE में SEARCH करते हुए VISITORS आये तो उससे ओर भी आप्शन मिले उस्सी रिलेटेड आर्टिकल पढने और समझ ने की

“BACKLINK” कितने टाइप के हैं ?

देखा जाये तो “BACKLINK” सिर्फ दो प्रकार के होते हैं :-

  1. “DOFOLLOW BACKLINK”
  2. “NOFOLLOW BACKLINK”

इन दो “BACKLINK” के वारे में कुछ लिखू उस से पहले आपको 5 LINKS के बिशाये में भी जानना बोहुत जरुरी हे :-

  • Juice Link
  • Low Quality Link
  • High Quality Link
  • Internal Link
  • External Link

1. Juice Link क्या हे ?

इसको जरा mango flavour दिया गया हे !! Lol I’m just joking !!

“Juice Link” इसका मतलब यह हे की कोई भी visitor इसी/आपके   ब्लॉग रिलेटेड दूसरा वेबसाइट में पढ़ रहा हो तो उसी आर्टिकल में आपके दिए गायें लिंक के जरिये Juice की तरह flow करते हुए visitor आपके पोस्ट में पोहचे  |

किसी famous website/blog में आपके “BACKLINK” के जरिये दिए गाये LINK को VISITOR द्वोरा CLICK करते ही आपके पोस्ट में पोहच जाये इसी प्रोसेस को Juice Link कहा जाता हे |

2. Low Quality Link क्या हे ?

“Low Quality” यानि कम खूबी समझलो घटिया खूबी कारन हे आगर आप spam करके या फिर किसी website से link हे जिसका DA,PA,spam score जादा और बोहुत कम ट्राफिक वाला हो उस लिंक को Low Quality Link कहा जाता हे |

इससे आपका कोई फायेदा नहीं होता वल्कि नुकसान हो सकता हे | आगर Google authority को पता चले तो हो सके तो penalty भी लगादे कोई बड़ी बात नहीं | ये में नहीं कह रहा हूँ ये Google की “Policy” कहती हे

जब भी link create करें तो ध्यान दे की DA,PA और SPAM SCORE को देख के करें की आपको फायेदा हो सके |

3. High Quality Link क्या हे ?

“High Quality link” English सब्द हे उसी लिए थोडा सुनने और देखने में अलग लगता हे लकिन मतलब एक ही हे | जरा देख्यिये  website जेसे की Shoutmehindi.com,Hindime.net,WIKIPEDIA इसे बोहुत सरे website हैं जिनकी traffic source बोहुत हे |

इसी वजह से इन websites को High Quality कहा जाता हे | और इन्ही वेबसाइट आर्टिकल में आपका लिंक जुड़ा हो तो आपके Link का फायेदा बोहुत होगा धीरे धीरे गूगल सर्च में भी रैंक करने लगेगा |

इससे आपके website का Google Authority बढ़ने लगेगा | कहने का मतलब Google Authoritative को आपके website के उपर विस्वाश बढेगा की आपका आछा website हे और Google search में आपका रैंक बढ़ाएगा |

4. Internal Link क्या हे ?

“INTERNAL LINK” नाम से ही पता चल रहा हे यह Link अन्दर में ही connect करना हे |

अंधार मतलब आपके website के पोस्ट | एसे बोहुत सरे पोस्ट लिखे होंगे उनमे से जो जादा view हुआ हे | उसी पेज में आप दुसरे पेज का लिंक ऐड कर सकते हैं |

जिनके द्वोरा आपको उस पेज में भी traffic आना सुरु हो जायेगा | क्यूंकि visitor को पता नहीं होता की उससे रिलेटेड ओर भी पोस्ट लिखे हैं |

5. External Link क्या हे ?

“EXTERNAL LINK” मतलब  बहार से connect कहने का मतलब आपके वेबसाइट के पोस्ट link से बहार दुसरे website पोस्ट से link करना |

आपके पोस्ट से दुसरे वेबसाइट के पोस्ट से लिंक को External Link कहा जाता हे

इससे यह होता हे दोनों को वारा-वारी से फायेदा होता हे | जेसे की visitor चाहे तो दुसरे वाला पोस्ट से आपके पोस्ट में आसकता हे या फिर आपके पोस्ट से दुसरे वाला पोस्ट में जा सकता हे |

ये भी फिल्मी dialog की तरह हे “जो दीखता हे वही बिकता हे “ !!!

1. DOFOLLOW LINK क्या होता हे ?

“DOFOLLOW LINK” का मतलब यह हे की किसी का भी पोस्ट में आपका LINK APPROVE  हो जाता हे या CONFIRM हो जाता हे की आपका लिंक Show करेगा

या फिर Juice Link की तरह flow होते हुए आये उससे Dofollow Backlink कहा जाता हे |

जो sure रहता हे अगर विजिटर पढके ख़तम करे तो फ्लो करते हुए automatically आपके पोस्ट में पोहच जाये |

इस process में में नहीं कहता की 100% आएंगे ही क्यूंकि इस दौड़ में दुसरे website वाले लोग भी दौड़ रहे हैं | फिर भी बोहुत चांस रहता हे traffic आने का |

2. NOFOLLOW LINK क्या हे ?

DO और NO का मतलब मुझे बताना नहीं पड़ेगा क्यूंकि मुझसे बेहतर आपको पता होगा | बस इसका मतलब यही हे की “DOFOLLOW BACKLINK” का OPPOSITE मतलब दुसरे के पोस्ट में कमेंट करेंगे तो कोई फ्लो होकर नहीं आएगा उसे ही “NOFOLLOW BACKLINK “कहा जाता हे |

आब आप सोच रहे होंगे की इसे बताने का मतलब क्या रहा ?

तो इसे बताने का मकसद यह हे की NOFOLLOW BACKLINK भी CREATE करे इससे यह होगा आपका WEBSITE Google के नजर में Natural लगेगा |

क्यूंकि कोई कोई fraud करके सिर्फ DOFOLLOW BACKLINK CREATE करता हे | गूगल नहीं चाहता हे की कोई fraud करके पैसा कमाए |

मुझे एसा लगता हे की Google यह चाहता हे की हार कोई एक दुसरे कापोस्ट पढ़े या कोई भी पढ़े तो अपना राये या सुझाभ कमेंट में जरुर दे |

ताकि Google को आसानी हो की आछा पोस्ट को Google search हो तब first page में आये और visitor को सही knowledge मिलने सके |

BACKLINK CREATE केसे करते हैं ?

Backlinks create करने के लिए 3 तरीके हैं :-

  1. Quality Content
  2. Guest Post  !
  3. Comment करना  !

1. Quality Content(King Content) क्या हे ?

आब real बात में आते हैं content यानि आपके article आपके लिखने के तरीके एसा होना चाहिए जो QUALITY लगे पढने में और समझने  में कोई कोई दिकत न हो  सब माखन की तरह लगे |

इससे पढने वाले को कुछ जानने और सिखने को मिलेगा और visitors जितने आपके पोस्ट को पढेंगे उतने ही पोस्ट का quality बढ़ने लगेगा |

जिससे गूगल भी चाहे गा की आछे taraffic वाले पोस्ट को पहले रेंक की स्थान दिया जाये की गूगल को भी Benifit होने पाए |

इसीलिए मेने “Quality content” को brackets में King content कहा क्यूंकि कोई भी strong seo set up करले अगर content ही quality नहीं रहेगा तो कुछ कम का नहीं |

2. Guest Post क्या हे ?

“Guest Post website/Blog” के एक नया feature हे जिसमे कोई भी bloger दूसरों के लिए आछा quality लिंक लिख करके उसके website में पोस्ट करनेको Guest post कहा जाता हे |

और जरा ध्यान रखियेगा की उस पोस्ट में आपका लिंक add करने मत भूलियेगा इस तरकीब से Quality Backlink create होगा जिससे आपको बेनिफिट मिलने सके |

इस वेबसाइट/ब्लॉग feature से  छोटे bloger को भी बढ़ने का मौका दिया जाता हे | जीसी का भी Guest पोस्ट लिखे तो सिर्फ popular website के लिए लिखे तभी जाके फायेदा मिल सकेगा नहीं तो नुकसान भी हो सकता हे जब आप low quality website के लिए लिखे तो | DA,PA और SPAM SCORE Checker से चेक करके |

3. Comment का क्या इस्तिमाल हे ?

आब से “comment” करना सुरु करें इसे Nofollow link create होती हे और natural लगने लगेगी इससे NOFOLLOW और DOFOLLOW BACKLINK में संतुलन बना रहे औ ब्लॉगर को भी ख़ुशी मह्सुश होगी |

इन्ही BACKLINK के बिच में “Directory Submission” के भी नाम आता हे जो backlink के role आदा करती हे | इससे जानने के लिए “Directory Submission” येहा क्लिक करे |

Advertisement
Amit kujur: नमस्ते दोस्तों मेरा नाम Amit Kujur हे ,में इंडिया के Odisha States के रहने वाला हूँ | आछा लगता हे जब इन्टरनेट के मदत से कुछ सीखते हैं और उसे website/blog के जरिये आपही जसे दोस्तों के बिच शेयर करना आछा लगता हे और मुझे भी सिखने को बोहुत कुछ मिलता हे | इसी passion को लेकर sikhnaasanhe.com website नाम का ब्लॉग बनाएं जहा हिंदी भाषा के आसान सब्दों में हार तरह के technology और skills related आर्टिकल जरिये मेरा जितना जो experience और knowledge हे शेयर करता हूँ |

View Comments (0)

Advertisement