Advertisement

HTTP aur HTTPS kya hai? इन दोनों में क्या अंतर हे ?

नामास्ते दोस्त क्या आप कभी गौर किये हैं URL के पेहले सब्द या नाम कहे http या https आता हे और यह कभी कभी नहीं वल्कि हार बार आता है

आगार आप गौर किये हैं तो मानमे जरुर ये सवाल आया होगा की “ http aur https kya hai? इन दोनों में क्या अंतर हे ?

आज के समय में हम कोई भी site को visit के लिए जाते हैं तो उस site को लिखने से पहले http या https नहीं लिखते हैं क्यूंकि आज के Internet Technology बोहुत ही Advance हो गयी हे

इसीलिए यह http या https by Default Add हो जाता हे और हम ध्यान भी नहीं देते हैं मानलो बिना http या  https लिखे किसी internet site में जाना चाहेंगे तो आप नहीं जापयेंगे

क्यूंकि http और https internet के एक system हे एक माध्यम हे जो web browser और client server को connect करता हे जिसे हम Network Protocol कहते हैं

1.  HTTP kya hai ?

HTTP क्या हे ? की यह एक माध्यम हे एक INTERNET Technology System है जो web browser और client server को connect करता हे बिना इसे इस्तिमाल किये कोई भी sites में access नहीं कर पायेगा

http का पूरा नाम हे Hyper Text Transfer Protocol यह सिर्फ connect का काम नहीं करता इससे भी advance ये Media file जेसे की Photos, Videos, Audio, Html files आदि को store करके client server ko send करता है

यह Technology सुरुआत के दिनों में उपयोग किया जाता था अभि भी होता हे इसीलिए इसमें जो भी Data या जानकारी store किया जाता हे वो files उसी format में store रहते हैं

2.  HTTP kaise kaam karta hai ?

HTTP के काम करने के तरीके Request और Response हे कहने का मतलब कोई client or internet user Request करता हे http इसी Request को server के माध्यम से http client को Response करता हे

http में सभी Data Store को send करता हे internet user के पास client server Request kya करता हे क्या Response किया जाये यह सुनने और जानने  में बेचिदा लगता हे लेकी यह काम बोहुत ही fast होता हे

और इन Request में Request line, Headers, Body और Html Laguage से मिली होती हे

Advertisement

3.  HTTP secure kyun nahi hai ?

सुरुआत के दिनों में यह बोहुत ही कारगर था सरल तरीके से लेकिन जाब Inertnet Technology System ओर भी Advance होने लगी तब कुछ लोग जो Hackers कहलाते हैं उनके लिए आसन सा लगने लगा

किसी के http website, commercial sites में store Data ko Hack करके किसीको बिना बताये चोरी करके लेजाते हैं

यह Data/ जानकारी मामूली नहीं होते हैं क्यूंकि आज के इस युग में सब internet द्वोरा काम होती हे इसीलिए दुनिया में पैसे के कारोबार world Bank से लेके National Banks aur हम जो भी online shping करते हैं

इन सब में Email id, Password, Mobile No., Bank के Account numbers और उसकी detailes Money Transaction के लिए sites में Add करते हैं  आगार इन sites में से कोई http से होती हे तो

आपके जानकारी/data चोरी होने के chance बढ़ जातें हैं Hackers के द्वोरा http में Hack करना इसलिए आसन होता हे की http में जो भी Data store होता हे वो सरल तरीके से store करता हे

मतलब Email id xyz@gmail.com हो तो वेसे ही xyz@gmail.com करता हे Password को भी 123 हो तो उसे भी 123 में store करता हे इसीलिए कोई Hack करता हे तो आसानी से Data को copy कर सकता हे

4.  HTTP code errors क्या है ?

HTTP code Error की बात करें तो यह आप भी आनुभाव कर चुके होंगे जब कुछ गलत होता हे उस समय http Error दिखाता हे आगार येही error सब की जानकारी हो तो आराम से हम समझ सकते हैं की इस Error का क्या मतलब

इसी समस्या का हाल निकाल ने के लिए Error की जानकारी आलग आलग माध्यम से दी गयी हे

* 400 Error Bad File Request :-

यह error तब दिखाई देता हे जब जिस url को लिखते हैं लेकिन small letter या Capital letter के गलती के वजह से error आती हे

* 401 Error Unauthorize :-

401 error दिखने का मतलब गलत Password enter करते है

* 403 ERROR Forbidden/ Access Denie :-

यह error का response करने का मतलब जिस्किसी page को open करना चाहते हैं पर आपके पास Permission नहीं हो

* 404 Error File Not Found :-

आब यह error आपको जाना पहचाना सा लग रहा होगा क्यूंकि यह error अक्सर देखने को मिलता हे इस error का मतलब हम जिस file या जानकारी को देखना चाहते हैं

मागर उस file delete या फिर किसी ओर जगह move करदिया गाया हो इस स्थिति में 404 Error response करता हे

* 408 Error Request Time :-

इस error दिखने का मतलब होता हे आपका server network problem की वजह से बोहुत समय लगाता हो या फिर page or file बड़े size में होने के कारन समय लगता हो

* 500 Error Internal problem :-

500 error http के response और error status codes के द्वोरा हमे यह जानकारी दी जाती हे की हम हमारे system के internal यानि configuration चाहे install में कुछ गलत हुआ हो

* 503 Error Service unavailable :-

internet सेवा , connectivity या फिर address सही नहीं होने के कारन इस 503 error को दिखाया जाता हे की हम जन सके की क्या गलत हो रहा हे

5.  HTTPS kya hai ?

https http का improve version हे https Network Protocol का अबिस्कर Netscape Corporation company दयोरा किया गया था आपने Navigator Browser के इस्तिमाल के लिए

https का पूरा नाम Hyper Text Transfer Protocol Secure हे इस https में Advance feature येही हे की कोई भी data files हो secure रहता हे

आगार आपका website http से सुरुआत होती हे http हे इसको बदल कर https कर सकते हे इसके लिए SSL CERTIFICATE बनानी पड़ती हे

6.  HTTPS kaise kam karta hai ?

काम करने के तरीके http जेसे ही लेकिन इसमें security के मामले में यह आलग method से काम करती हे क्यूंकि https की लक्ष्या येही रहता हे की जो भी data store हो वोह सुरक्षित रहे

https को कोई Hack भी करे तो Hacker उन Data को समझ नहीं पायेगा क्यूंकि उन data files को Cryptography method से encrypt किया गया होता हे जिसे Hacker भी समझ नहीं पते

जिसके कारन आपका data https के द्वोरा सुरक्षित रहती हे

7.  HTTPS kyun सुरक्षित है ?

आभी के समय में Google http ://xyz@gmail.com के मुकाबले https ://xyz@gmail.com sites  को जादा महत्वा देता हे

और अभि के Hosting Provider company भी free में SSL certificate देती हे Google भी आपने Blogger में unlimited SSL certificate free में देता हे

https को सुरक्षित करने के काम Cryptography method के जरिये होता हे https में कोई भी data store होता हे तब encrypt format में रखा जाता हे

आगार कोई Hacker Hack करले तो वो email id- xyz@gmail.com या password- 123 data को email id @#%%^&*$ और password- @!#!!$)^& इस तरह के दिखेंगे  इसके कारन Hacker भी समझ नहीं पायेगा और आपका data safe रहेगा

8.  Cryptography kya hai ?

Cryptography यह एक technic हे जो SSL Certificate के लिए इस्तिमाल किया जाता हे Cryptography के मदत से कोई भी Data को Encrypt करके https में store किया जाता हे

और इस Encrypt किया हुआ file सिर्फ उसी को decrypt करसकता हे जो Authrized id हो

यह system बोहुत ही कारगर हे आपके data protection के लिए और उसी website से आपना Data/ bank detailes Add करे जो Autherize हो https हो

9. HTTP aur HTTPS kya hai? इन दोनों में क्या अंतर हे ? (Diffrence between HTTP and HTTPS)

SL विषय HTTP HTTPS
1 अविष्कार इस Network Protocol का अविष्कार Sir Timothy John द्वोरा किया गया इस Network Protocol का अविष्कार Netscape Corporation company द्वोरा हुआ था
2 URL की सुरुआत HTTP URL की सुरुआत http :// से होती हे HTTPS URL की सुरुआत https :// से होती हे
3 Data Protection मामले में unsecured secure
4 server speed HTTPS के मुकाबले तेज HTTP के मुकाबले कम क्यूंकि SECURITY Html files के
5 Cryptography द्वोरा Encrypt  HTTP में आबस्यकता नहीं HTTPS में सब store data Encrypt format में होता हे
6 Data Transfer Port HTTP Data Transfer Port 80 HTTPS Data Transfer Port 443
7 उपयोग Blog, School, Colleges and Tution आदि में उपयोग कर सकते हैं data sharing के लिए Banks, Business, Blogs,secure sites
8 Search Page Rank Google secure के मामले में भरोसा नहीं करता जिनके कारन Rank घाटा देता हे 2014 में Google के policy आनुसार Https वाली sites को जादा महत्वा देता हे http के मुकाबले
9 (AMP) Acceleration Mobile Page उपयोग HTTP में नहीं हो सकता HTTPS में AMP की उपयोग हो सकता हे
10 SSL Certificate की जरुरत  HTTP को SSL की certificate जरुरत नहीं होती HTTPS में SSL की certificate की जरुरत होती हे

10.  Free में HTTP को HTTPS कैसे करे ?

HTTP को HTTPS कैसे करे ? क्या आप भी आपने Website को http से https में बदलने के लिए SSL Certificate बनाना चाहते हे

SSL Certificate Provide करना आब business बन चुकी हे जिसके कारन आब हर जगह पैसा Charge करते हैं

लेकिन आपको फ्री में बनानी हे तो step follow करें

Step :-

  1. cloudflare.com में free new account बनाना हे
  2. उसी account में आपना website add करें
  3. name server change करना
  4. Cloudflare plugine install करना
  5. Enable SSL Certificate on करना

1.  Cloudflare.com में free new account बनाना हे :

  • free SSL Certificate के लिए Cloudflare.com website search करके sighn up में click करे
  • आपना email id और password add करे (याद रखे हमेसा आपना original password ना दे) इसके बाद create account में click करे

2.  उसी account में आपना website add करें :

  • आपना website add करे
  • add site में click करने के बाद next करे और Free Plan select करें
  • confirm करने के बाद continue में click करे

3.  Name server change करना :

  • आपका website Add होने के बाद
  • Nameserver change करने के option देगा
  • Nameserver को copy करें
  • इसकेबाद जहा से आप domain ख़रीदे हैं उस वेबसाइट में जाके manage product में click करते हुए DNS Record मैं जाये और Nameserver में change click करें
  • CLOUDFLARE.com से दिए गये Nameserver को copy करके इस domain provider website के Nameserver में paste करें फिर save
  • इसकेबाद cloudflare website में आके निचे scroll करके recheck करे

4.  Cloudflare plugine install करना :

  • आपने website में जायें और add plugine में click करें
  • और cloudflare Flexible SSL plugine को install करके active करे

5.  Enable SSL Certificate on करना :

  • plugine active करके cloudflare.com में जाये
  • cloudflare website के page में lock icon में click करें
  • निचे scroll करके Always use HTTPS को NO करें

इसकेबाद आपका Website secure हो जायेगा

यह Article पढ़ कर कैसा लगा comment करके जरुर बताये धनियाबाद

Advertisement
Amit kujur: नमस्ते दोस्तों मेरा नाम Amit Kujur हे ,में इंडिया के Odisha States के रहने वाला हूँ | आछा लगता हे जब इन्टरनेट के मदत से कुछ सीखते हैं और उसे website/blog के जरिये आपही जसे दोस्तों के बिच शेयर करना आछा लगता हे और मुझे भी सिखने को बोहुत कुछ मिलता हे | इसी passion को लेकर sikhnaasanhe.com website नाम का ब्लॉग बनाएं जहा हिंदी भाषा के आसान सब्दों में हार तरह के technology और skills related आर्टिकल जरिये मेरा जितना जो experience और knowledge हे शेयर करता हूँ |

View Comments (0)

Advertisement