Advertisement

Good Friday kyun manay jate hein? और इसकी इतिहास

क या आप जानते हे गुड फ्राइडे क्या हे और इसे क्यूँ मनाया जाता हे ? आगर नहीं, तो आपके लिए यह Good Friday

Advertisement
Article बोहुत ही Informative होने वाली हे  गुड फ्राइडे एक त्यौहार हे जो ईसाई धर्म के लोग मानते |

इस त्यौहार को सभी त्योहारों की तरह धूमधाम से नहीं वल्कि शौक के तोर पैर मनाया जाता हे क्यूंकि ईसी सुकृवार(friday) को ईसामसीह (Jesus christ) को निर्दोस, कठीन दुःख, शारीरिक यातनाये देने के बाद  दोनों हाथ, पैर में शूली सहित किल ठोकने  के वाद  पंजर में बार्चे से बोख कर मृतुयु दंड दे दिया गया था |

बाईबल के अनुसार यह 2000 साल पहले घटी ये घटना आज भी पूरी दुनिया के लोग गुड फ्राइडे के तौर पर  त्यौहार मानते हे | मनुष्य  के दोवरा पाप और मृतुयु  उत्पन हुई और बढ़ने लगी उन्ही पापों  से उधार देने के लिए संव्य परमेश्वर पिता अपने एक लौते पुत्र को मनुष्य के रूप में दे दिया था |

यीशु मसीह इस संसार में आने का उदेश्या येही था की  पापी लोगो को हटाने नहीं वल्कि लोगो से पाप को हटाने  और लोग एक दुसरे से प्रेम रखे | ‘’यह गुड फ्राइडे क्या , क्यूँ और इसकी इतिहास के सम्बंधित details में जब्कारी के लिए, चलिये सुरु करते हैं |

गुड फ्राइडे क्या हे ? (What is Good Friday in Hindi )

‘’गुड फ्राइडे’’ पवित्र सप्ताह के बिच में पड़ता हे अप्रैल के महीने साल में एकबार | ईसाई धर्म के लोग संख्या बोहुत हैं और आब  दुनिया के हर देश , विदेश, राज्य हर कोने में फेहले हुए हैं और इस गुड फ्राइडे त्यौहार को शौक के तौर पर मानते हैं |

काई लोग इस पुरे दिन उपवास करके बाईबल में लिखी बचानों  को मनन और प्रर्थना करते हैं तो कोई लोग लेंट के दिनों सो उपवास रखते हुए इसी सप्ताह sunday(Easter Sunday) को तोड़ते हैं |

इस  दिन ईशाई धर्म के लोग चर्च जाते हैं और परमेश्वर पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के दोवरा दिए गए पवित्र बचन (बाईबल) को पुरे मन, ह्रदय से जानने ,समझने  और विस्बाश करने में समय ब्यातित करते हैं क्यूंकि आने वाले दिनों में इन्ही जीवित बचनों  को अमल करने पाएं |

गुड फ्राइडे का इतिहास ! (History of Good Friday) 

बाईबल के अनुसार आज से 2000 साल पहले घटी यह घटना के  इस्राएल देश में रहने वाले  याहुदी धर्म के सस्त्रियों और पुरोहितों ने साजिस करके रोमी सामराज्य के हाकिमो दोवारा मरवाया क्यूंकि उस समय इस्राएल देश पर रोम देश का सासन था |

लकिन यीशु मसीह को  क्यूँ मरवाया गया ?

परमेश्वर के एक लौटे पुत्र यीशु मसीह जो मनाब रूप में इस पृथ्वी में लाये गायें थे | यीशु मसीह की जीवित बचन/उपदेस,पुराने नियम के नवी परमेश्वर पिता के भविश्य्वनी को पूरा करते थे, और अस्चर्या कर्मो को देख लोग उनके ओर अकर्सित होने लगे थे |

इसे देख याहुदी धर्म के सस्त्रियों और पुरोंहितों के बिच डर और भय छह गया था क्यूंकि यीशु मसीह के वजह से उनका धर्म का झुटा व्यबसय ख़तम ना हो जाये |

ईसी समस्या से छुटकारा पाने  के लिए इस्राएल देश के झूटी याहुदी सस्त्रियों और कपटी लोग एक एसा साजिस रची जो अपने ही चेलों मेंसे एक को 30 चांदी के सीके से मौल लिया और उसी के दोवारा पकड़वाया गया |

गुड फ्राइडे का महत्व !Good Friday kyun manay jate hein? और इसकी इतिहास

गुड फ्राइडे का महत्व इसाई धर्म के अनुयायिओं में बोहुत जादा हे | यीशु मसीह इस पृथ्वी में 32 साल तक जीवित थे और इन्ही 32 सालों में परमेश्वर की इछाओं को पूरी करते हुए मनुष्य जाती को परमेश्वर का असली ज्ञान, भेद की बातें, मानवता, पापों से दूर, आपस में प्रेम के साथ मेल्मिलब से रहने और एसे बोहुत बड़ी बड़ी गुप्त की बातें बताता था जो हमे अभी बाईबल में लिखी मिलती हे |

बाईबल के प्र.व.-1:8 में परमेश्वर कहते हैं प्रभु परमेश्वर, जो हे और था और जो आनेवाला हे, जो स्व्र्गशाक्तिमान हे, यह कहता हे ‘’में ही अल्फ़ा और अमेगा हूँ ‘’ |

अगर यीशु मसीह चाहते तो उस सद्यन्त्र से बच सकते थे ! क्यूंकि तिश्रीवर था जो पकड्वोया जाने से पहले ही यीशु वाबिश्यवानी चेलों के सामने किया था तो क्यूँ यीशु मसीह अपने आप को उनके हवाले कर दिए कारन सिर्फ इतना था की अपने पिता यानि परमेश्वर स्वर्ग्शाक्तिमान पिता की इछा पूरी हो सके

और वोह इछा यह था की अदि से लेके जो सैतान के वेह्काए जाने से आदम और हवा दोवारा कि गयी पाप जिस पाप के दोवारा दुख, कास्ट ,पीड़ा और मृत्यु अयिथि  इनसे जीत पाने की सिक्ष्या यीशु द्वरा मनुष्य को मिले |

यीशु मसीह कहते हे  जो कोई मुझ में  विश्वास करेगा वो मर भी जाये तो भी जियेगा जेसे की यीशु मसीह 3 दिन के बाद Easter संडे को मृतुयु मेंसे जी ऊठे थे |

यीशु कहते हैं युहना:14-6 यीशु ने उससे कहा, ‘‘मार्ग और सत्य और जीवन में ही हूँ ; बिना मेरे द्वरा कोई पिता के पास नहीं पोहुच सकता ‘’

गुड फ्राइडे के दिन क्या किया जा हे ?

गुड फ्राइडे के दिन ईसाई धर्म के अनुयाई सबसे पहले यीशु मसीह को धन्यवाद देने के लिए शुबहा शुबहा परमेश्वर के मंदिर आराधनालयों (चर्च)  में जाते हैं और परमेश्वर के बाईबल बचनों को पढकर चर्च के संचालक पास्टर द्वारा समझाया जाता हे | और गीत(शौक)  गाते हुए बजा बजाते हुए परमेश्वर की स्तुति, आराधना करते हैं

जेसे यीशु के पकड्वोयए जाने से पहले यीशु अपने चेलों के साथ आखरी यानि (LAST SUPPER) भोजन किया था उसमे यीशु रोटी ली और कहा लो यह मेरा मांस टुकड़े करके चेलो में बाट दिया फिर दाखराश लिया और कहा लो यह मेरा लहू कह कर चेलों में बाट दिया |

और कहा इसे धन्यवाद और पश्च्याताप और विस्वाश के साथ खाओ की तुम पाप से उधार पाओ  क्यूंकि यीशु जानते थे उसके पकद्वोय जाने के समय  निकट आ पोह्ची हे |

इसी विधि के अनुसार ईशाई धर्म के लोग उस दिन पास्टर के हाथों से और पस्च्यातापी  और विस्वाशी मन से प्रभु भोज यानि रोटी और दाखराश को ग्रहण(खाते)  करते हैं

गुड फ्राइडे सन्देश !

‘’गुड फ्राइडे’’  हमें(मनुष्य जाती) एक दुसरे से प्रेम और श्यामा करते हुए यीशु मसीह को धन्यवाद देने के सन्देश देते हैं जेसे यीशु मसीह को यहुदिओं सस्त्री द्वारा शारीरिक यातनाये और शूली में दोनों हाथ और पैर को लोहे कि किल से टोक दिया गया

फिर भी यीशु अपने प्राण छोड़ने से पहले आखरी सब्दों में यह कहा था की ‘’हे परमेश्वर पीते, हे आबा इन्हें माफ़ करदो ये नहीं जानते की यह क्या कर रहे हे ‘’ | यीशु मसीह की श्यामाशक्ति बोहुत हे जिसकी बराबरी कोई नहीं कर सकता |

गुड फ्राइडे शौक का पर्ब हे लकिन गुड का शब्द इसीलिए उपयोग किया गया क्यूंकि परमेश्वर पिता की इछा के अनुशार यीशु मसीह की बलिदान जो हमें पूरी मनुष्य जाती को  पाप ,दोष,रोग ,गुन्हा और मृत्यु से उद्धार मिले |

इसीलिए गुड फ्राइडे श्यामा, प्रेम ,आदर ,मनाब्ता, धन्यवाद ,प्रार्थना और बलिदान की सन्देश देती हे |   

मुझे उम्मीद हे की यह गुड फ्राइडे क्यूँ मनाया जाता हे ARTICLE पसंद आया होगा मेरी पूरी कोशिश थी की आप आछी तरह जाने और पढ़ने में दिकत नाहो | में कही छुट गया या भूल गया हूँ तो आपके सुझाब निचे दिए गायें कमेंट बॉक्स में कमेंट करें |

अगर आपको यह पोस्ट अच लगा तो अपने मित्रों व परिवारों में SOCIAL SITE Facebook, What’s app,instagram  के माध्यम से शेर करें | धन्यवाद

Advertisement
Amit kujur: नमस्ते दोस्तों मेरा नाम Amit Kujur हे ,में इंडिया के Odisha States के रहने वाला हूँ | आछा लगता हे जब इन्टरनेट के मदत से कुछ सीखते हैं और उसे website/blog के जरिये आपही जसे दोस्तों के बिच शेयर करना आछा लगता हे और मुझे भी सिखने को बोहुत कुछ मिलता हे | इसी passion को लेकर sikhnaasanhe.com website नाम का ब्लॉग बनाएं जहा हिंदी भाषा के आसान सब्दों में हार तरह के technology और skills related आर्टिकल जरिये मेरा जितना जो experience और knowledge हे शेयर करता हूँ |

View Comments (0)

Advertisement